ईवीएम में वोटों की गिनती के साथ गिनी जाएंगी वीवीपैट की पर्चियां

अखिलेश कुमार की रिपोर्ट

ईवीएम में वोटों की गिनती के साथ गिनी जाएंगी वीवीपैट की पर्चियां

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से मांगा जवाब

दरसल,
चुनावों में हार के बाद विपक्ष की ओर से कई बार EVM का मुद्दा उठाया गया। लोकसभा चुनाव के बाद वोटों की गिनती के दौरान ईवीएम के साथ सारी वीवीपैट पर्चियां भी गिनने के लिए याचिका दायर की गई है। अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर चुनाव आयोग से जवाब मांगा है।

जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस संदीप मेहता की पीठ ने सामाजिक कार्यकर्ता अरुण कुमार अग्रवाल के वकीलों की दलीलों को सुना। इसके बाद याचिका पर चुनाव आयोग और केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया।
अरुण कुमार अग्रवाल ने अपनी याचिका में कहा कि सरकार ने तकरीबन 24 लाख वीवीपैट की खरीद पर करीब 5,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं, लेकिन वर्तमान में लगभग 20,000 वीवीपैट पर्चियां ही सत्यापित हैं। कोर्ट में अगली सुनवाई 17 मई को हो सकती है
वही
सुप्रीम कोर्ट के इस कदम से विपक्ष गदगद है,
जयराम रमेश ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म X पर लिखा, “VVPAT के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने आज चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है। चुनाव आयोग ने INDIA गठबंधन के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल से मिलने से इंकार कर दिया है। हमारी मांग थी कि ईवीएम में जनता का विश्वास बढ़ाने और चुनावी प्रक्रिया की पवित्रता सुनिश्चित करने के लिए VVPAT पर्चियों के 100% मिलान किए जाए। इस संबंध में यह नोटिस पहला और काफ़ी महत्वपूर्ण कदम है।
लेकिन इसकी सार्थकता के लिए, चुनाव शुरू होने से पहले ही मामले पर निर्णय लिया जाना चाहिए।”

बीजेपी ने आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए अबकी बार 400 पार का नारा दिया है। इसको लेकर भी सवाल उठने लगे हैं।
आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा था कि बीजेपी वाले 400 पार कह रहे हैं। क्या EVM में पहले से ही सेटिंग है? पिछले कुछ सालों में देखा गया है कि जब भी बीजेपी की जीत हुई है, तो वहां विपक्ष ने ईवीएम हैक होने का आरोप लगाया है।